शुक्रवार, 6 नवंबर 2009


उतरूं ऊंडै काळजै
उतरूं थांरै
 ऊंडै काळजै
मारूं चुभ्यां
 ढूंढूं
छिब म्हारी
थिर मन-जळ में ।
जित्तौ उतरूं
बित्तौ बैठूं
गहरै तळ-अतळ
दाझूं
इण री कळ-झळ में
 मन सांभळूं
 चींत चितारूं
देखूं-निरखूं
 हियै विचारूं
 कठै पज्यौ मनमौजी भंवरो
 इण छळ-बळ में ।
झींझ बाजै चित्त आंगणियै
होठां घूघरा नाचै
 अबै प्रगटसी,
बांथां भरसी
 थूं मन जळ-निरमळ में
भूल्यौ म्हैं भावां री लहरां
 करतो रैयो किलोळ
 मुगती री मनगत रै धकै
उळझ्यौ इण सळ-दळ में ।
चाहै उळझूं,
चाहै सुळझूं
जाणूं निस्चै मिळसी थूं
धुन है पक्की,
 मत्तौ पक्को
 हुयस्यां दो सूं अेक
 इणी जग-कुळ में
 उतरूं
 थांरै ऊंडै काळजै
 मारूं चुभ्यां
 ढूंढूं छिब थांरी
 थांरी यादां रै जंगळ में  । ۞

 कुण जाणै किण मौत मरां ?  
चैतरफी
 मुरङाण हवा में
 छेवट कद लग मौन धरां ?
समझायो धमकायो मन नैं
 घणौ सांवट्यो घायल तन नैं,
 दूजां री लेलङ्यां में ई
 बिरथ गमायो म्हैं जीवन नैं ।
 जीवन रो जद
जीव कळीजै
 किण विध जीवन मान करां ?
 भूख करावै पाप घणां
बिण विध जीवन राग भणां,
रातङली कट ज्यावै आंख्यां
 सुख थोङा अर दुख घणां ।
धमाचैकङी चमगूंगां री
 कुण जाणै किण मौत मरां ?
 आंधा आखर
 मेळ-जोळ रा
 सबद अणमणां बंतळ-बोळ रा,
मांदो जीवन
जीव गळगळा
 रंगरूट
 घणां मोळ-खोळ रा ।
राज
हवा में डांगां रो
सपनैं कियां उङान भरां ?

  ۞
अरथ मिनख रो किण नैं बूझै
 जीव झबळकै,
 मनङो जूझै
 लोक लाज 
तद किण विध सूझै
 जीव पेट नैं घणौ भुळायो 
भूखै मन नै घणो जुळायो,
 कद लग राखै आंकस भूख
 पेट मिनख नैं घणो घुळायो । 
पेट कसाई पापी हुयग्यो 
जात-धरम रो जीव अमूझै
 रोटी सट्टै इज्जत बिकगी
 रोटी खातर आ्रंख्यां सिकगी, 
काण-कायदा छूट्या सगळा 
बैमाता कै लेख लिखगी ? 
जीव जगत रो बैरी हुयग्यो 
कामधेनु तद किण विध दूझै
 मन मंगळ रो सरब रूखाळो 
भूख-चाकी तो मांगै गाळो,
 पंचायतिया करै न्याव जद 
क्यूं नीं ले लै पेट अटाळो
 हेवा हुयग्यो जीव दमन रो
 अरथ मिनख रो किण नैं बूझै  ? ۞ 

 मनगत रै कैनवास माथै
आ रे साथी
थनैं दिखाऊं
 मनगत रो संसार,
जूण-जूझ सूं कळकळीजती
 जिंदगाणी रो सार !
घालमेल जीवन रंगां में
 धोळा मांडूं काळा दिखै,
 हेत-नेह रै मारग बगतां
पग-पग मिनखपणौ अबै बिकै ।
 अरथ लीलग्यो अपणायत नैं
रिस्ता जाणैं हुयो बौपार
मुंहडै आगै हेताळु जग
 मांय-मांय ई जङ बाढै
लारै भूंड-चाळीसा बांचै
 सैंमुहडै बत्तीसी काढै ।
जीवन रंग अजब है साथी
 घणोै तङफावै मांयली मार !
अपणायत री कोमळ धरती
बीज आम रो बोऊं,
तळतळीजूं नफरत लपटां
भळै कोई नैं खोऊं
लोक रै अखबारां बिरवो
 आकङो बण ज्यावै,
साथी म्हारा बखत देख थूं
 कूङ साच नैं खावै !
 किण नैं देऊं दोस बैलीङा
जीवन अपरम्पार,
जूण जूझ सूं कळकळीजती
 जिंदगाणी रो सार । ۞



1 टिप्पणी:

  1. बधाई, प्रयास सांतरो है। लगोलग राखो। मंगळकामनावां

    उत्तर देंहटाएं

जगजाहिर