शुक्रवार, 11 दिसंबर 2009

हत्या, डी.टी.एच.




हत्या

मगनै रै कथनां मुजब उण री करज सूं खरीदयोड़ी गाय राम-शरण हुयगी, इण वास्तै बो करज-माफी रो हकदार हो । बैक मैनेजर पूछताछ करी तद मगनो गोळ-मोळ जवाब देंवतो रैयो अर मौजीज पशु डाक्टर रो गाय-मिरत्यू प्रमाण-पत्र ई पेश करयो । मगनो आपरै मनां-गनां घणो ई सावचेत अर सजग हो पण ठा नीं क्यूं बैंक मैनेजर नैं उण माथै बैम हुयो । इणी बैम धकै अफसर मरियोड़ी गाय देखणैं री इंच्छा बताई ।
मगनो गतागम में पज आकळ-बाकळ हुयग्यो । खुद री कूड़ पकड़ीजती देख रिवाज मुजब मैनेजर रो हाथ दाब्यो अर पांच-पांच सौ रा चार नोट गूंजै सूं काढ उण कानीं सिरका दिया ।
गाय तो हुवै तो मरै । करज लैंवती बगत भी हथेळी में ई गाय बपराई ही । मैनेजर आपरै अंतस में कूदती गाय नैं मगनै रै पांच सौ नोटां रै बोझ तळै तड़फ-तड़फ’र मरतां देखी ।
बो मगनै रै खिलाफ मामलो बणा दियो । मैनेजर मुजब ओ कैस मिरत्यू रो नीं हत्या रो हो ।
रिवाज कांई बदळ्यो, सुणी जिको ई मैनेजर नै झालर अर डफोळ बतायो पण मैनेजर नै ओ संतोख हो कै गाय जींवती ही ।

Û



डी.टी.एच.


‘हां तो जवानां ! आज आपां बात करस्यां, मौजूद साधनां रै सम्पूरण उपयोग री ! थे सगळा तैयार हो....?’ गुरुजी इत्तो कैय’र छोरां रै चेहरां में आपरी बात रो असर ढूंढता बिसांई ली ।
‘थां सगळां रै घरां टी.वी. तो है ही । कइयां रै एन्टीना सूं चालै तो कइयां रै कैबल सूं....! एन्टीना सूं चालण आळी टी.वी. में रैय’र-रैय’र झीरयां आवै जिकी तो आवै ई है, कोई दमदार नाटक-फिलम ई इण माथै देखण नै नीं मिलै, जद कै कैबल माथै क्वालिटी रै सागै कीं हियै ऊतरै जैड़ा प्रोग्राम ई देख सकां...! बोलो, आ बात साची कै झूठ...?’ गुरूजी छोरां सूं पडूत्तर मांग्यो ।
‘आ तो सौळाना साची है गुरूजी....!’ राग मिला’र छोरा बोल्या अर रसदार बात सुण आपरा कान और चौड़ा कर मांड दिया ।
‘शाबास ! इणी बात रा तो आपां कैबल आळै नै सौ रिपिया महीनों न्यारा दैवां । इण वास्तै इण बात नै ही गांठ बांध ल्यो कै पढाई में भी आ ई बात लागू हुवै । स्कूल में तो थानै दूरदर्शन ई दैखण नै मिलसी । जे मिनखां दांई पढणो हुवै तो डी.टी.एच. सेवा लेवणै में ई समझदारी है । थे बात नै समझग्या नीं...?’
‘हां गुरुजी ! डी.टी.एच. मानै ट्यूशन !’


Û
    

1 टिप्पणी:

  1. चोखी लागी सा लघुकथा.
    यू आपने मधुमती में केई वार पढ़ती रेवु . आज अठे देख र घणो हरख होयो .

    उत्तर देंहटाएं

जगजाहिर